Breaking

Sunday, November 10, 2019

बेहतरीन लव शायरी ( हिंदी में लव शायरी ) Love Shayari in hindi 2020



  • Love Shayari in hindi 2020




Love Shayari in hindi




  • हमारी चाहत है तुझे अपना बनाने की,
    हमने तो ज़रूरत की है तुझसे दिल लगाने की,
    अब तू हमे चाहे या न चाहे,
    लेकिन हमारी तो हसरत है तुझ पर मर मिट जाने की।



  • हर पल मोहब्बत करने का वादा है आपसे,
    हर पल साथ निभाने का वादा है आपसे,
    कभी ये मत समझ न हम आपको भूल जायेंगे,
    जिंदगी भर साथ चलने का वादा है आपसे।

  • ए खुदा मोहूबत भी तूनेअजीब चीज बनाए है, तेरे ही बन्दे तेरी मस्जिद में तेरे हीसामने रोते है, लेकिन तुजे नहीं किसी और को पाने के लिये

love shayari in hindi images


 Love Shayari in hindi


love shayari in hindi for girlfriend

इक रात वो गया था जहाँ बात रोक के

अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के
गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले
जानता है कि वो न आएँगे
फिर भी मसरूफ़-ए-इंतिज़ार है दिल






दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!




 Love Shayari in hindi


Love Shayari in hindi smsहजारों चेहरों में उसकी झलक मिली मुझको … पर… दिल भी जिद पे अड़ा था कि अगर वो नहीं ,तो उसके जैसा भी नहीं






Tujhe Mohabbat Karna Nahi Aata,
Mujhe Mohabbat Ke Siva Kuch Nahi Aata,
Zindagi Guzarne Ke Do Tarike Hote Hai,
Ek Tujhe Nahi Aata Aur Ek Mujhe Nahi Aata.




Peeth Peeche Kaun Kya Bolta Hai…
Farq Nahi Padta Saamne Kisi Ka
Muh Nahi Khulta Yahi Kaafi Hai






पीठ पेहे कौन कौन बोलता है 
 फरक न पडता सौमन केसी का
 मुह न खुल्ला याही काफ़ी है





Baap Ki Daulat Pe Ghamand Kar Ke Kya Maza,
Maza Toh Tab Hai Jab Daulat Apni Ho Or Fakkar Baap Kare.




Love Shayari in Hindi 2 line

माना की तुम जीते हो ज़माने के लियेएक बार जी के तो देखो हमारे लिये,दिल की क्या औकात आपके सामने,हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!






बाप की दौलत पे घमंड कर के क्या माज़ा,
 माज़ा तो ताब है जब दौलत अपना या फकरे बाप करे।






Har mulakat ko yaad hum karte hain, Kabhi chahat kabhi judai ki aah bharte hain, Yun to roj tumse sapno mein baat karte hain par, Fir se agli mulakat ka karte hain





हर मुलकात को यद हम अपने दिल से, कभी चाहत की जुदाई में, यूं टू रोज तमगे सपनो में बात करतें हैं, फिर से अगल मुल्लाकात का काते हैं





न जिद है न कोई गुरूर है हमे,
बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,
इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,
सजा जो भी हो मंजूर है हमे।





आज मुझे ये बताने की इजाज़त दे दो,
आज मुझे ये शाम सजाने की इजाज़त दे दो,
अपने इश्क़ मे मुझे क़ैद कर लो,
आज जान तुम पर लूटाने की इजाज़त दे दो.

No comments:

Post a Comment