Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी, Nanhe Yadav Status Love

Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी



Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी
Gam Bhari Shayari Unique Post To गम भरी शायरी Or Gam Bhari Shayari In Hindi With Images, Gam Love Shayari, Best Gam Shayari, Gam Bhari Shayari HD Wallpapers Pictures And Photos, Pyar ka Gam Shayari Also Two Lines Shayari on Gam in English And Hindi Fonts Any Many More. Painful Shayari


Gam Bhari Shayari दर्द बनकर समा गया कोई

गहरी रात भी थी हम दर भी सकते थे
हम जो कहे ना सके वो कर भी सकते थे
तुम ने साथ छोड़ दिया हमारा ये भी ना सोचा
हम पागल थे तेरे लिए मर भी सकते थे

बहुत अजीब सिलसिले है मोहब्बत इश्क मैं
कोई वफ़ा के लिए रोया तो कोई वफ़ा कर के


मोहब्बत वो हसीं गुनाह है जो मैंने तुझसे ख़ुशी से किया है
पर मोहब्बत में इंतज़ार वो सजा है सिर्फ इंतज़ार सिर्फ इंतज़ार सिर्फ इंतज़ार किया है

गम भरी शायरी मोहब्बत इश्क मैं

दर्द बनकर समा गया कोई
दिल में काँटे चुभा गया कोई
Dard Bankar Samo Gaya Koi
Dil Me Kante Chubho Gaya Koi

Hum Bhi Phoolon Ki Tarah Aksar Tanah Rehte Hai
Kbhi Toot Jate Hai To Kabhi Koi Tod Deta Hai
हम भी फूलों की तरह अक्सर तनह रहते है
कभी टूट जाते है तो कभी कोई तोड़ देता है

Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी टूट जाया करते हैं

जो नजर से गुजर जाया करते हैं;
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं;
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

माना कि तुझको मै हासिल ना कर सका,
मोहब्बत थी तुझसे बयां ना कर सका,
लेकिन किसी को पा लेना ही मोहब्बत नहीं होता,
चाहे मै तेरे काबिल ना बन सका।

तुझे पलकों पर बिठाने को जी चाहता है,
तेरी बाहों से लिपटने को जी चाहता है,
खूबसूरती की इंतेहा है तू...
तुझे ज़िन्दगी में बसाने को जी चाहता है।


Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी

अल्फाज़ अक्सर अधूरे ही रह जाते हैं मोहब्बत में ,
हर शख्स किसी ना किसी की चाहत दिल में दबाये रखता है .

तू हर चीज मांग ले तुझ पर कुर्बान है ,
बस एक जान मत मांगना
क्यूंकि तुम ही मेरी जान हो

मैं अपनी मोहब्बत में,
बच्चों की तरह हूँ
जो मेरा हैं वो बस मेरा हैं,
किसी ओर को क्यों दू


ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम हैं, मोहब्बत के लिए
रूठ कर वक्त गवाने की ज़रूरत क्या हैं


Gam Bhari Shayari,गम भरी शायरी

एक ही सवाल करती हु दर्द भरी


हर दिन बस खुद से एक ही सवाल करती हु दर्द भरी से “क्या उसे सच में फर्क नहीं पड़ता”

सुनो… मेरी जान मे दर्द लेकर भी हसूंगा तुम दर्द देकर भी रोएगी…

दर्द को मुस्कुरा कर सेहना क्या सिख लिया.
लोगों को लगता है की मुझे तकलीफ नहीं होती…

वक़्त निकाल कर कभी कभी मिलने आ जाया करो
क्यूंकि, लोग कहते है सुकून के पल जीना भी ज़रूरी है.

जो लोग बहुत प्यार जताते हैं.
अक्सर वही लोग छोड़ कर जाते हैं

Gam Bhari Shayari,गम भरी दर्द तुमको,

पर तुमने दिन मैं काम सोने नहीं देता,
रात मैं एक नाम सोने नहीं देता.

तुम्हारे होने न होने से फर्क पड़ता है. इसलिए तुमसे लड़ जाता हूँ
नहीं तो मुस्कुरा कर अलविदा कह देते.

सोचा था बताएँगे सब दर्द तुमको,
पर तुमने तो इतना भी
न पूछा की, खामोश क्यों हो.

दर्द भरी शायरी

यादें…..
अजीब ज़ुल्म करती है
तेरी यादें मुझे पर,
सो जाऊ तो उठा देती हैं
जाग जाऊ तो रुला देती है.

कुछ पल के लिए मुझे अपनी बाहों में सुला दे.
अगर आँख खुली तो उठा देना और अगर न खुली तो दफना देना.

Gam Bhari Shayari Hindi प्यार को खेल और मुझे

बहुत याद आते हो तुम
दुआ करो मेरी यादाश्त चली जाय

आज कल मेरी कमी भी उसे सताती नहीं,
लगता है किसी और ने पूरी करदी है…

शुक्रिया तेरा मुझे मेरी औकात बताने के लिए..
प्यार को खेल और मुझे मजाक बनाने के लिए.


अभी दर्द नहीं हुआ है उनको
अभी वो इश्क नहीं समझेंगे….||कितनी खामोश मुस्कराहट थी,
शोर बस आँख की नमी में था….||दर्द की भी अपनी ही एक अदा है !
वो भी सिर्फ सहने वालों पर ही फिदा है….||

Gam Bhari Shayari HindiMe दर्द की भी अपनी ही एक

कभी ज़रूरत पड़े तो आवाज़ दे देना,
मैं गुज़रा वक़्त नहीं जो वापिस न आऊ….||


वक्त के साथ कई दर्द मेरी जान
अब पुराने निकले,
कुछ गम ऐसे थे मेरी जान
जो तेरे बहाने निकले….||


उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है….||


कुछ राज़ तो क़ैद रहने दो मेरी आँखों में
हर किस्से तो शायर भी नहीं सुनाता है….||


मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता है,
कुछ अपनी तकलीफ से डर लगता है,
जो मुझे तुजसे जुदा करते है,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता है….||

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं….||

Gam Bhari Shayari ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है….||


चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नही,
रवैये अजनबी हो जाये तो बडा दर्द होता है….||

किसी की चाहत पे ज़िंदा रहने वाले हम ना थे,
किसी पर मर मिटने वाले हम ना थे,
आदत सी पड़ गयी तुम्हे याद करने की,
वरना किसी को याद करने वाले हम ना थे….||


Gam Bhari Shayari Hindi अगर दर्द किसी

नसीहत अच्छी देती है दुनिया,
अगर दर्द किसी ग़ैर का हो….||


कोई बात किसी की भी अब बूरी नहीं लगती,
तेरी दूरी भी अब तो मुझे दूरी नहीं लगती…
हूं मसरूफ समेटने में ज़िन्दगी को इस तरह,
तेरी मौजूदगी भी इसमें अब जरूरी नहीं लगती..


बिन मेरे रह ही जाएगी कोई न कोई कमी,
तुम ज़िंदगी को जितनी मर्जी सँवार लेना…!!